एक बेघर किसान जो शेयर बाजार से बन गया अरबपति

0
2445

From Homless Farmer To A Billionare

एक बेघर किसान , जिसके परिवार में दूर दूर तक किसी का भी शेयर बाजार से लेना देना नहीं रहा हो वो अगर शेयर बाजार से अरबो कमा ले तो शायद आपको विश्वास न हो , पर ये काम केरल के एक किसान पोरिन्जू वेल्याथ ने किया है |

पोरिन्जू का जन्म 1962 में कोच्ची में एक माध्यम वर्गीय परिवार में हुआ था  | उनका शुरुवाती जीवन आर्थिक उतार चढावो से भरा रहा | जब वह 16 वर्ष के थे तो लोन चुकाने के लिए उनके परिवार को उनका घर बेचना पड़ा था | पोरिन्जू ने फिर 2500 रु महीने की नौकरी एक टेलीफ़ोन एक्सचेंज में की और साथ में अपनी कानून की पढाई भी की | अपना ला पूरा करने के बाद उन्हें अच्छी नौकरी जब नहीं मिली तो उन्होंने मुंबई जाकर नौकरी करने का फैसला किया |

मुंबई में उन्हें कोटक सेक्युरिटीज में फ्लोर ट्रेडर की नौकरी मिली , जहा से उनका शेयर बाजार से परिचय हुआ | कुछ ही दिनों में पोरिन्जू ट्रेडिंग को समझ गए और खुद ही शेयर ट्रेडिंग करने लगे | उन्होंने चार साल कोटक में काम किया जहा वो बाजार को सीखते समझते रहे | 1994 में उन्होंने कोटक छोड़ दिया और पराग पारीख की कंपनी में रिसर्च एनालिस्ट के तौर पर ज्वाइन किया | वो पांच साल वहा काम करते रहे और सीखते रहे | कोटक में जहा उन्हें ट्रेडिंग सीखने का मौका मिला तो पराग पारीख सेक्युरिटीज में उन्हें निवेश करना सीखने को मिला |

मुंबई का शेहरी जीवन उन्हें रास नहीं आ रहा था 1999 में वो वापस कोच्ची चले गए और वही से ही अपने लिए ट्रेडिंग और शेयरों में निवेश करने लगे | उन्होंने अपना पहला बड़ा निवेश जिओजित में किया जिसने उन्हें मल्टीबेगर मुनाफा दिया | इस पैसे से उन्होंने अपना घर और जमीन वापस खरीद ली जो उनके परिवार को बेंक का लोन चुकाने के लिए बेचनी पड़ी थी | शेयरों में ट्रेडिंग निवेश के साथ साथ वो खेती भी करने लगे, जो वो आज भी करते है |

2002 में उन्होंने अपनी खुद की इन्वेस्टमेंट कंपनी इक्विटी इंटेलिजेंस शुरू की जो आज कई बड़े उद्योगपतियों और व्यवसाइयो का पैसा शेयर बाजार में निवेश करती है | पोरिन्जू को खेती करना बहुत पसंद है उसका ऑफिस भी उनके फार्म पर है ताकि वो खेती को भी समय देते रहे |

porinju velyaath success story in hindi
porinju velyaath success story in hindi

पोरिन्जू वेल्याथ की निवेश रणनीति

पोरिन्जू एसी कंपनियों में निवेश करना पसंद करते है जो आज अच्छी इस्तिथि में न हो पर भविष्य जिनका अच्छा हो सकता है | पोरिन्जू अच्छे मनेजमेंट वाली कंपनी ही पसंद करते है और  शेयर के महगे होने से पहले ही निकल जाते है | 2012 में उन्होंने श्रेया शिपिंग का शेयर 30 रु में लिया जी 2015 में बढ़कर 869 का हो गया जिसे पोरिन्जू ने 700 पर ही बेच दिया था | उनका मानना है भले ही शेयर और ऊपर जाए पर अच्छे निवेशको को उस से निकल जाना चाहिए जब वो अपने सही फंडामेंटल भाव पर पहुच जाए |